मंगलवार, जून 30, 2015

जानिए की श्री अमरनाथ कौन और क्या हैं श्री अमरनाथ यात्रा ...???

जानिए की श्री अमरनाथ कौन और क्या हैं श्री अमरनाथ यात्रा ...???

इस वर्ष दो जुलाई 2015  से आरम्भ होने वाली अमरनाथ धाम यात्रा श्रद्धालुओं के लिए यह अत्यंत पूजनीय है. जिसने भी इस यात्रा के बारे में जाना या सुना है, वह कम से कम एक बार जाने की इच्छा जरूर रखता है.अमरनाथ यात्रा का नाम सुनते ही भोले बाबा शिव शंकर के बर्फ़ से बने विशाल शिवलिंग  की छवि आँखों के सामने आ जाती है। इस पवित्र यात्रा को करने के लिए हिन्दू ही नहीं बल्कि मुस्लिम, सिख और अन्य धर्म के लोग भी आते हैं। हिन्दू धर्म में तो इस धार्मिक यात्रा का कुछ ख़ास ही महत्त्व है। 

दक्षिण कश्मीर में 3,888 मीटर की ऊंचाई पर स्थित श्री अमरनाथ गुफा मंदिर में पवित्र शिवलिंग भारी बर्फबारी की वजह से इस वर्ष काफी ऊंचा हो गया है, लेकिन तीर्थयात्रा के परंपरागत मार्ग से बर्फ हटाना एक बड़ी चुनौती बनने वाली है। इस वर्ष पवित्र श्री अमरनाथ शिवलिंग की ऊंचाई पिछले कुछ सालों में औसतन 10 से 11 फुट की तुलना में इस बार 13 फुट है। इस वर्ष घाटी में में भारी बर्फबारी हुई है, जिसकी वजह से तापमान कम बना हुआ है और इससे पवित्र शिवलिंग का निर्माण अच्छी तरह हुआ है। इस वर्ष शिवलिंग ऊंचाई अधिक रहने की संभावना है, जिससे अधिक से अधिक तीर्थयात्री आकर्षित होंगे।"

शास्त्रों के अनुसार तो यह वही पवित्र स्थान है जहां भगवान शिव ने माता पार्वती को अमरकथा सुनाई थी। अमरकथा सुनने के दौरान माता पार्वती को नींद आ गई। भगवान शिव जब यह कथा सुना रहे थे, तो दो कबूतर भी यह सुन रहे थे। ब्रह्मांड का रहस्य जानकर उन कबूतरों को अमरत्व की प्रप्ति हो गई। कहते हैं कि हर साल सावन मास की पूर्णिमा को ये कबूतर गुफा में दिखाई पड़ते हैं।

अमरनाथ हिन्दुओ का एक प्रमुख तीर्थस्थल है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार इस गुफा में भगवान शंकर ने माता पार्वती को अमरत्व और सृष्टि के सृजन के बारे में बताया था। दरअसल, पार्वती लगातार अपने पति से अमरत्व और सृष्टि के निर्माण का राज जानना चाहती थीं। लेकिन भगवान शंकर उस स्थान की तलाश में थे, जहां कोई तीसरा व्यक्ति सुन न सके। इसलिए उन्होंने इस गुफा को चुना।

यह कश्मीर राज्य के श्रीनगर शहर के उत्तर-पूर्व में १३५ सहस्त्रमीटर दूर समुद्रतल से १३,६०० फुट की ऊँचाई पर स्थित है। इस गुफा की लंबाई (भीतर की ओर गहराई) १९ मीटर और चौड़ाई १६ मीटर है। गुफा ११ मीटर ऊँची है। अमरनाथ गुफा भगवान शिव के प्रमुख धार्मिक स्थलों में से एक है। अमरनाथ को तीर्थों का तीर्थ कहा जाता है क्यों कि यहीं पर भगवान शिव ने माँ पार्वती को अमरत्व का रहस्य बताया था।ऐसी मान्‍यता है कि यहां पहुंचता वही है, जिसे बाबा अमरनाथ अपने दरबार में बुलाते हैं.अमरनाथ यात्रा को उत्तर भारत की सबसे पवित्र तीर्थयात्रा माना जाता है। यात्रा के दौरान भारत की विविध परंपराओं, धर्मों और संस्कृतियों की झलक देखी जा सकती है। अमरनाथ यात्रा में शिव भक्तों को कड़ी कठिनाईयों का सामना करना पड़ता है। बेशक यह यात्रा थोड़ी कठिन है, लेकिन कश्मीर के मनोरम प्रकृति नजारों और धार्मिक तथा अध्यात्म का अनोखा पुट इससे जुड़ा है। रास्ते उबड़ - खाबड़ है, रास्ते में कभी बर्फ़ गिरने लग जाती है, कभी बारिश होने लगती है तो कभी बर्फीली हवाएं चलने लगती है। फिर भी भक्तों की आस्था और भक्ति इतनी मज़बूत होती है कि यह सारे कष्ट महसूस नहीं होते और बाबा अमरनाथ के दर्शनों के लिए एक अदृश्य शक्ति से खिंचे चले आते हैं। यह माना जाता है कि अगर तीर्थयात्री इस यात्रा को सच्ची श्रद्धा से पूरा कर तो वह भगवान शिव के साक्षात दर्शन पा सकते हैं। जून से लेकर अगस्त माह तक दर्शनों के लिए लाखों की संख्या में श्रद्धालु यहां पहुंचते हैं।

यहाँ की प्रमुख विशेषता पवित्र गुफा में बर्फ से प्राकृतिक शिवलिंग का निर्मित होना है। प्राकृतिक हिम से निर्मित होने के कारण इसे स्वयंभू हिमानी शिवलिंग भी कहते हैं। आषाढ़ पूर्णिमा से शुरू होकर रक्षाबंधन तक पूरे सावन महीने में होने वाले पवित्र हिमलिंग दर्शन के लिए लाखो लोग यहां आते है। गुफा की परिधि लगभग डेढ़ सौ फुट है और इसमें ऊपर से बर्फ के पानी की बूँदें जगह-जगह टपकती रहती हैं। यहीं पर एक ऐसी जगह है, जिसमें टपकने वाली हिम बूँदों से लगभग दस फुट लंबा शिवलिंग बनता है। चन्द्रमा के घटने-बढ़ने के साथ-साथ इस बर्फ का आकार भी घटता-बढ़ता रहता है। श्रावण पूर्णिमा को यह अपने पूरे आकार में आ जाता है और अमावस्या तक धीरे-धीरे छोटा होता जाता है। आश्चर्य की बात यही है कि यह शिवलिंग ठोस बर्फ का बना होता है, जबकि गुफा में आमतौर पर कच्ची बर्फ ही होती है जो हाथ में लेते ही भुरभुरा जाए। मूल अमरनाथ शिवलिंग से कई फुट दूर गणेश, भैरव और पार्वती के वैसे ही अलग अलग हिमखंड हैं।
 (संकलन)
===============================================
इस वर्ष श्री अमरनाथ यात्रा दो जुलाई 2015 से शुरू होने वाली इस सालाना तीर्थयात्रा में इस बार पवित्र शिवलिंग की ऊंचाई पिछले कुछ सालों के औसतन 10-11 फुट की तुलना में इस बार 13 फुट है मुख्य यात्रा अधिकारी बशीर अहमद खान ने पत्रकारों को बताया, 'इस साल घाटी में भारी बर्फबारी हुई है, जिसकी वजह से तापमान कम बना हुआ है और इससे पवित्र शिवलिंग का निर्माण अच्छी तरह हुआ है। उन्होंने कहा, इस साल शिवलिंग ऊंचाई अधिक रहने की संभावना है, जिससे अधिक से अधिक तीर्थयात्री आकर्षित होंगे।
समुद्रतल से लगभग 3888 मीटर की ऊंचाई पर स्थित पवित्र अमरनाथ की गुफा में बाबा बर्फानी अपने पूरे आकार में आ चुके हैं। अमरनाथ यात्रा शुरू होने में अब सिर्फ 2 दिन बाकी है। जिसमें श्रद्धालु अपने आराध्य के दर्शन कर सकते हैं। अमरनाथ की पवित्र गुफा को अमेरश्वर गुफा भी कहा जाता है। इसी पवित्र गुफा में भगवान शंकर ने मां पार्वती को अमरत्व की कथा सुनाई थी। हर साल श्री अमरनाथ की यात्रा श्रावण पूर्णिमा के दिन संपन्न होती है।
अमरनाथ यात्रा के लिए इस बार पहला जत्था पहली जुलाई की सुबह रवाना होगा। यदि मौसम ने साथ दिया तो पहले जत्थे के श्रद्धालु उसी शाम बाबा बफार्नी के दर्शन कर लेंगे। श्रद्धालुओं की सेवा के लिए 150 से अधिक लंगरों की व्यवस्था की गई है। प्रतिदिन करीब 15 हजार श्रद्धालुओं को पहलगाम और बालटाल के रास्ते यात्रा में शामिल होने की अनुमति दी गयी है। अब तक करीब ढ़ाई लाख श्रद्धालुओं ने यात्रा के लिए पंजीकरण करवाया है। 30 जून से ऑन द स्पॉट पंजीकरण की भी घोषणा कर दी गयी है।
===============================================
सामान्य  प्रचलित कथा है कि इसी गुफा में माता पार्वती को भगवान शिव ने अमरकथा सुनाई थी, जिसे सुनकर सद्योजात शुक-शिशु शुकदेव ऋषि के रूप में अमर हो गये थे। गुफा में आज भी श्रद्धालुओं को कबूतरों का एक जोड़ा दिखाई दे जाता है, जिन्हें श्रद्धालु अमर पक्षी बताते हैं। वे भी अमरकथा सुनकर अमर हुए हैं। ऐसी मान्यता भी है कि जिन श्रद्धालुओं को कबूतरों को जोड़ा दिखाई देता है, उन्हें शिव पार्वती अपने प्रत्यक्ष दर्शनों से निहाल करके उस प्राणी को मुक्ति प्रदान करते हैं। यह भी माना जाता है कि भगवान शिव ने अद्र्धागिनी पार्वती को इस गुफा में एक ऐसी कथा सुनाई थी, जिसमें अमरनाथ की यात्रा और उसके मार्ग में आने वाले अनेक स्थलों का वर्णन था। यह कथा कालांतर में अमरकथा नाम से विख्यात हुई।

कुछ विद्वानों का मत है कि भगवान शंकर जब पार्वती को अमर कथा सुनाने ले जा रहे थे, तो उन्होंने छोटे-छोटे अनंत नागों को अनंतनाग में छोड़ा, माथे के चंदन को चंदनबाड़ी में उतारा, अन्य पिस्सुओं को पिस्सू टॉप पर और गले के शेषनाग को शेषनाग नामक स्थल पर छोड़ा था। ये तमाम स्थल अब भी अमरनाथ यात्रा में आते हैं। अमरनाथ गुफा का सबसे पहले पता सोलहवीं शताब्दी के पूर्वाध में एक मुसलमान गडरिए को चला था। आज भी चौथाई चढ़ावा उस मुसलमान गडरिए के वंशजों को मिलता है। आश्चर्य की बात यह है कि अमरनाथ गुफा एक नहीं है। अमरावती नदी के पथ पर आगे बढ़ते समय और भी कई छोटी-बड़ी गुफाएं दिखती हैं। वे सभी बर्फ से ढकी हैं।
 (संकलन)
=======================================
कैसे करें यात्रा....
देश के सभी कोनों से तीर्थयात्री रेल, बस या हवाई जहाज़ के जरिए आसानी से जम्मू पहुंच सकते हैं। श्रद्धालुओं की तीर्थयात्रा जम्मू से शुरू होती है। अमरनाथ यात्रा पर जाने के भी दो रास्ते हैं। एक पहलगाम होकर और दूसरा सोनमर्ग बलटाल से। यानी कि पहलगाम और बलटाल तक किसी भी सवारी से पहुंचे, यहां से आगे जाने के लिए अपने पैरों का ही इस्तेमाल करना होगा। अशक्त या वृद्धों के लिए सवारियों का प्रबंध किया जा सकता है। हालांकि पवित्र गुफा सिंध घाटी में सिंध नदी की एक सहायक नदी अमरनाथ (अमरावती) के पास स्थित है तथापि इस तक परम्परागत रूप से बरास्ता लिदर घाटी पहुंचा जाता है। श्रद्धालु इस मार्ग पर दक्षिण कश्मीर में पहलगांव से होकर पवित्र गुफा पहुंचते हैं और चंदनवाड़ी, पिस्सू घाटी, शेषनाग और पंचतरणी से गुजरते हुए लगभग 46 किलोमीटर की यात्रा करते हैं। पहलगाम से जाने वाले रास्ते को सरल और सुविधाजनक समझा जाता है। एक और छोटा रास्ता श्रीनगर - लेह राजमार्ग पर स्थित बालताल से है। बालताल से अमरनाथ गुफा की दूरी केवल 14 किलोमीटर है और यह बहुत ही दुर्गम रास्ता है और सुरक्षा की दृष्टि से भी संदिग्ध है। इसमें कुछ क्षेत्र सीधी चढ़ाई और गहरी ढलान वाले हैं। इसीलिए सरकार इस मार्ग को सुरक्षित नहीं मानती और अधिकतर यात्रियों को पहलगाम के रास्ते अमरनाथ जाने के लिए प्रेरित करती है। लेकिन रोमांच और जोखिम लेने का शौक़ रखने वाले लोग इस मार्ग से यात्रा करना पसंद करते हैं। अतीत में यह मार्ग ग्रीष्म ऋतु की शुरुआत में प्रयोग में आता था लेकिन कभी - कभी बर्फ़ के पिघलने के कारण इस मार्ग का प्रयोग असंभव हो जाता था। लेकिन समय के बीतने के साथ परिस्थितियों में सुधार हुआ है और दोनों ही मार्गों पर यात्रा काफ़ी आसान हो गई है।

अमर नाथ यात्रा पर जाने के भी दो रास्ते हैं। एक पहलगाम होकर और दूसरा सोनमर्ग बलटाल से। यानी कि पहलमान और बलटाल तक किसी भी सवारी से पहुँचें, यहाँ से आगे जाने के लिए अपने पैरों का ही इस्तेमाल करना होगा। अशक्त या वृद्धों के लिए सवारियों का प्रबंध किया जा सकता है। पहलगाम से जानेवाले रास्ते को सरल और सुविधाजनक समझा जाता है। बलटाल से अमरनाथ गुफा की दूरी केवल १४ किलोमीटर है और यह बहुत ही दुर्गम रास्ता है और सुरक्षा की दृष्टि से भी संदिग्ध है। इसीलिए सरकार इस मार्ग को सुरक्षित नहीं मानती और अधिकतर यात्रियों को पहलगाम के रास्ते अमरनाथ जाने के लिए प्रेरित करती है। लेकिन रोमांच और जोखिम लेने का शौक रखने वाले लोग इस मार्ग से यात्रा करना पसंद करते हैं। इस मार्ग से जाने वाले लोग अपने जोखिम पर यात्रा करते है। रास्ते में किसी अनहोनी के लिए भारत सरकार जिम्मेदारी नहीं लेती है।

पहलगाम से अमरनाथ-----
पहलगाम जम्मू से ३१५ किलोमीटर की दूरी पर है। यह विख्यात पर्यटन स्थल भी है और यहाँ का नैसर्गिक सौंदर्य देखते ही बनता है। पहलगाम तक जाने के लिए जम्मू-कश्मीर पर्यटन केंद्र से सरकारी बस उपलब्ध रहती है। पहलगाम में गैर सरकारी संस्थाओं की ओर से लंगर की व्यवस्था की जाती है। तीर्थयात्रियों की पैदल यात्रा यहीं से आरंभ होती है।

पहलगाम के बाद पहला पड़ाव चंदनबाड़ी है, जो पहलगाम से आठ किलोमीटर की दूरी पर है। पहली रात तीर्थयात्री यहीं बिताते हैं। यहाँ रात्रि निवास के लिए कैंप लगाए जाते हैं। इसके ठीक दूसरे दिन पिस्सु घाटी की चढ़ाई शुरू होती है। कहा जाता है कि पिस्सु घाटी पर देवताओं और राक्षसों के बीच घमासान लड़ाई हुई जिसमें राक्षसों की हार हुई। लिद्दर नदी के किनारे-किनारे पहले चरण की यह यात्रा ज्यादा कठिन नहीं है। चंदनबाड़ी से आगे इसी नदी पर बर्फ का यह पुल सलामत रहता है।

चंदनबाड़ी से १४ किलोमीटर दूर शेषनाग में अगला पड़ाव है। यह मार्ग खड़ी चढ़ाई वाला और खतरनाक है। यहीं पर पिस्सू घाटी के दर्शन होते हैं। अमरनाथ यात्रा में पिस्सू घाटी काफी जोखिम भरा स्थल है। पिस्सू घाटी समुद्रतल से ११,१२० फुट की ऊँचाई पर है। यात्री शेषनाग पहुँच कर ताजादम होते हैं। यहाँ पर्वतमालाओं के बीच नीले पानी की खूबसूरत झील है। इस झील में झांककर यह भ्रम हो उठता है कि कहीं आसमान तो इस झील में नहीं उतर आया। यह झील करीब डेढ़ किलोमीटर लम्बाई में फैली है। किंवदंतियों के मुताबिक शेषनाग झील में शेषनाग का वास है और चौबीस घंटों के अंदर शेषनाग एक बार झील के बाहर दर्शन देते हैं, लेकिन यह दर्शन खुशनसीबों को ही नसीब होते हैं। तीर्थयात्री यहाँ रात्रि विश्राम करते हैं और यहीं से तीसरे दिन की यात्रा शुरू करते हैं।

शेषनाग से पंचतरणी आठ मील के फासले पर है। मार्ग में बैववैल टॉप और महागुणास दर्रे को पार करना पड़ता हैं, जिनकी समुद्रतल से ऊँचाई क्रमश: १३,५०० फुट व १४,५०० फुट है। महागुणास चोटी से पंचतरणी तक का सारा रास्ता उतराई का है। यहाँ पांच छोटी-छोटी सरिताएँ बहने के कारण ही इस स्थल का नाम पंचतरणी पड़ा है। यह स्थान चारों तरफ से पहाड़ों की ऊंची-ऊंची चोटियों से ढका है। ऊँचाई की वजह से ठंड भी ज्यादा होती है। ऑक्सीजन की कमी की वजह से तीर्थयात्रियों को यहाँ सुरक्षा के इंतजाम करने पड़ते हैं।

अमरनाथ की गुफा यहाँ से केवल आठ किलोमीटर दूर रह जाती हैं और रास्ते में बर्फ ही बर्फ जमी रहती है। इसी दिन गुफा के नजदीक पहुँच कर पड़ाव डाल रात बिता सकते हैं और दूसरे दिन सुबह पूजा अर्चना कर पंचतरणी लौटा जा सकता है। कुछ यात्री शाम तक शेषनाग तक वापस पहुँच जाते हैं। यह रास्ता काफी कठिन है, लेकिन अमरनाथ की पवित्र गुफा में पहुँचते ही सफर की सारी थकान पल भर में छू-मंतर हो जाती है और अद्भुत आत्मिक आनंद की अनुभूति होती है।

बलटाल से अमरनाथ- जम्मू से बलटाल की दूरी ४०० किलोमीटर है। जम्मू से उधमपुर के रास्ते बलटाल के लिए जम्मू कश्मीर पर्यटक स्वागत केंद्र की बसें आसानी से मिल जाती हैं। बलटाल कैंप से तीर्थयात्री एक दिन में अमरनाथ गुफा की यात्रा कर वापस कैंप लौट सकते हैं।
 (संकलन)
======================================
जानिए की कैसे करें श्री अमरनाथ यात्रा की तैयारियां ...???

अमरनाथ यात्रा पर जाने से पहले श्रद्धालुओं के मन में बहुत से सवाल होते हैं जैसे कि यह यात्रा कितनी जोखिम भरी है, बच्चों को वहां ले जाना ठीक है या नहीं, क्या इस यात्रा के पहले फिटनेस का ख्याल रखना ज़रूरी है आदि। तो चलिए हम आपको कुछ टिप्स दिये देते हैं जिससे आपकी यह कठिनाई भरी यात्रा भी बड़ी ही आसान और सुखद बन जाएगी। नीचे लिखी कुछ ज़रूरी बातों और सावधानियों का ध्यान रखा जाये तो आप अमरनाथ जैसी दुर्गम यात्रा को अपनी सूझ बुझ के साथ सुगम बना पाएंगे।

इस यात्रा को शुरू करने पहले आपका शारीरिक रूप से फिट होना ज़रूरी है। तो शुरू कर दें कम से कम एक महीने पहले से प्रतिदिन 4 से 5 किलोमीटर टहलना। 
आप बड़े बुजुर्गों को अपने साथ यात्रा पर ले जा सकते हैं पर उससे पहले उनकी जांच डॉक्टर से करवा कर सुनिश्चित कर लें कि वो इस यात्रा के लिए फिट है या नहीं। यदि ज़रूरत पड़े तो आप उनको ये यात्रा घोड़े, खच्चर, बघ्घी या हेलीकाप्टर से भी करवा सकते हैं। ध्यान रखें की ब्लड प्रेशर तथा हार्ट के पेशेंट्स के लिए ये यात्रा सख्त रूप से मन है।
वैसे तो अमरनाथ यात्रा के बीच में खाने पीने का इंतज़ाम रहता है लेकिन फिर भी आपको सलाह दी जाती है की आप अपने साथ हलकी फुल्की खाने की चीज़ें जैसे बिस्कुट, टॉफी, पानी की बोतल, ड्राय फ्रूट्स, भुने चने, चाकलेट्स आदि लेकर चलें।
खुद को अमरनाथ श्राइन बोर्ड द्वारा रजिस्टर्ड करवा लें। श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड सभी तीर्थयात्रियों को एक लीगल यात्रा परमिट जारी करता है। जिसमे इन्श्योरेंस कवर भी शामिल होता है। यह इन्श्योरेंस को यात्रा के समय संभावित दुर्घटना को देखते हुए दिया जाता है।
महिलाएं साड़ी पहनने से अच्छा है कि पैंट–शर्ट, शलवार–कमीज़, ट्रैक सूट पहने, जो चलने तथा पहाड़ चढ़ने के लिए ज्यादा आरामदायक होगा।
त्वचा की सुरक्षा के लिए वैसलीन, कोल्ड क्रीम और धूप के चश्मे साथ ज़रूर रखने चाहिए। अपने साथ एक फर्स्ट ऐड बॉक्स रखें जिसमे जरूरी दवाओं के अलावा आयोडेक्स, डिस्प्रिन और अन्य ज़रूरत की या नियमित दवाइयां भी ज़रूर रख लें।
यहां पर आपको उंची चढ़ाई और बर्फीली हवाओं का सामना करना पड़ता है। अपने साथ ऊनी कपड़े और अन्य सामान ले जाएं, जैसे विंड चीटर, स्लीपिंग बैग, वाटरप्रूफ़ शूज़, टॉर्च, छड़ी, जैकेट, उनी मोज़े आदि रखना ज़रूरी है। 
टट्टू और डंडी वाले मजदूरों को अपना सामान देने से पहले उनके वैलिड आई कार्ड को चेक करना न भूलें। इससे उनके गायब होने का डर नहीं होता।
आपका आइडेंटिटी कार्ड और श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड द्वारा जारी यात्रा परमिट कार्ड आपके साथ होना ज़रूरी है।
इन सब तैयारियों के बाद आप पावन अमरनाथ की धार्मिक यात्रा के लिए बिल्कुल तैयार हैं। बस भोले शंकर का नाम ले और निकल पड़े आत्मा के सुकून के लिए एक रोमांचक सफ़र पर।
=====================================
कैसे करें पंजीकरण...???
जानिए श्री अमरनाथ यात्रा 2015 पंजीकरण के लिए चरण दर चरण प्रक्रिया---

भारत भर में बैंकों की नामित शाखाऍ के माध्यम से श्री अमरनाथ यात्रा 2015 पंजीकरण के लिए कृपया नीचे वर्णित चरण दर चरण प्रक्रिया का पालन करें:

पंजीकरण और यात्रा परमिट सबसे पहले आने वाले को सबसे पहले के आधार पर किया जाएगा।
यात्रियों के पंजीकरण की प्रक्रिया 1 मार्च 2015 से बैंकों की नामित शाखाओं से शुरू किया जाएगा।
एक यात्रा परमिट केवल एक यात्री पंजीकरण के लिए मान्य होगा।


प्रत्येक पंजीकरण शाखा प्रति दिन/ प्रति मार्ग कोटा एक निश्चित आवंटित करेगा। पंजीकरण शाखा सुनिश्चित करेगा कि यात्रियों की संख्या आवंटित से अधिक नहीं।
कोई भी 13 वर्ष उम्र से कम या 75 वर्ष से ऊपर और छह सप्ताह के गर्भ से अधिक कोई औरत यात्रा के लिए पंजीकृत नहीं करेगा।
हर यात्री को आवेदन पत्र और अनिवार्य स्वास्थ्य प्रमाणपत्र (CHC) यात्रा परमिट प्राप्त करने के लिए प्रस्तुत करना होगा। आवेदन पत्र, CHC और डॉक्टरों की सूची (चिकित्सा CHC जारी करने के लिए, प्राधिकृत संस्थानों की जानकारी) SASB के साथ उपलब्ध हैं।
आवेदक-यात्री के लिए पंजीकरण शाखा द्वारा आवेदन पत्र और CHC लागत से नि: शुल्क उपलब्ध कराया जाएगा।
यात्रा परमिट के आवेदन के लिए, आवेदक-यात्री निम्नलिखित दस्तावेजों को पंजीकरण अधिकारी के सामने प्रस्तुत करेगा:
भरा गया निर्धारित आवेदन पत्र; और
मेडिकल अधिकृत डॉक्टर द्वारा 10 फरवरी 2015 के बाद जारी किए गए अनिवार्य स्वास्थ्य प्रमाणपत्र।
चार पासपोर्ट आकार के फोटो (यात्रा परमिट के लिए तीन और आवेदन फार्म के लिए एक)
निम्न पंजीकरण अधिकारी निम्नलिखित की जांच करेगा:
क्या आवेदन पत्र सही ढंग से भरा गया है और आवेदक-यात्री द्वारा हस्ताक्षर किए गया है;
क्या CHC अधिकृत डॉक्टर/ मेडिकल संस्था द्वारा जारी किया गया है;
क्या CHC 10 फरवरी 2015 के बाद जारी किया गया है
पंजीकरण अधिकारी बलताल मार्ग के लिए बलताल यात्रा परमिट और पहलगाम मार्ग के लिए पहलगाम यात्रा परमिट जारी करेगा। प्रत्येक दिन और मार्ग के लिए, पंजीकरण अधिकारी यात्रा परमिट नीचे दिए गए रंग कोडिंग के अनुसार जारी करेगा:
दिन यात्रा परमिट के लिए पहलगाम मार्ग का रंग यात्रा परमिट के लिए बलताल मार्ग के रंग
सोमवार लैवेंडर (Lavender) नींबू शिफॉन (Lemon Chiffon)
मंगलवार गुलाबी फीता (Pink Lace) नीले (Blue)
बुधवार बेज (Beige) हनी ड्यू (Honeydew)
गुरुवार आड़ू (Peach) लैवेंडर (Lavender)
शुक्रवार नींबू शिफॉन (Lemon Chiffon) गुलाबी फीता (Pink Lace)
शनिवार नीले (Blue) बेज (Beige)
रविवार हनी ड्यू (Honeydew) आड़ू (Peach)
विशिष्ट दिन यात्रा करने के लिए (यानी - सोमवार, मंगलवार, बुधवार, गुरुवार, शुक्रवार, शनिवार और रविवार) हर एक पंजीकृत तीर्थ यात्री के यात्रा परमिट पर मुद्रित किया गया है। यात्रा परमिट पर मुद्रित दिन पर, यात्री को बलताल/ पहलगाम (Chandanwari) नियंत्रण द्वारों को पार करने की अनुमति दी जाएगी।


यात्रा परमिट जारी करने से पहले बैंक शाखा यह सुनिश्चित करेगा कि यात्रा परमिट पर मुद्रित दिनांक (यानी - सोमवार, मंगलवार, बुधवार, गुरुवार, शुक्रवार, शनिवार और रविवार) नियंत्रण द्वार पार करने के दिन से मेल कर रहा हो
परमिट में यात्रा की तिथि और यात्रा वर्ष नहीं मुद्रित किया गया है। इसलिए बैंक शाखा के लिए अनिवार्य है बैंक, यात्रा की तारीख और यात्रा वर्ष लिखे/ स्टाम्प करे और एक पारदर्शी टेप के साथ पेस्ट करे (पारदर्शी टेप से चिपकाकर आदेश की तारीख और यात्रा का वर्ष छेड़छाड़ प्रूफ बनाने के लिए महत्वपूर्ण है)। हालांकि, तिथि, वर्ष और बैंक शाखा के मुद्रांकन, यात्रा परमिट के जारी करने के समय पर ही किया जाएगा। किसी मामले में, किसी भी यात्रा परमिट पर अग्रिम टिकट नहीं लगा होना चाहिए। इस पहलू को सुनिश्चित किया जाए।
यदि आवेदन पत्र और सीएचसी क्रम में हैं, पंजीकरण अधिकारी एक YP जारी करने के लिए आवेदक से 50/- रुपये का भुगतान ले (रु35/- SASB के खाते में और शेष राशि बैंक द्वारा रखा जाएगा)15-17 में वर्णित चरणों का पालन के बाद।
पंजीकरण अधिकारी पासपोर्ट आकार फोटो लगा कर आवेदन फार्म और सीएचसी में उल्लेख किया विवरण के अनुसार यात्रा परमिट आवेदन फार्म मौके पर भरने होंगे। यात्रा की तिथि भी सही ढंग से भरा हो।


पंजीकरण अधिकारी यात्रा परमिट साइन करेगा और यात्रा परमिट पे इस तरह से मुहर लगाए की आवेदक-यात्री की बैंक ब्रांच सील, तस्वीर और YP पर आंशिक रूप से अंकित हो।
आवेदक के लिए यात्री यात्रा परमिट जारी करने से पहले, पंजीकरण अधिकारी को निम्नलिखित विवरण रिकॉर्ड करेगा:
यात्रा परमिट जारी करने की तारीख।
यात्रा परमिट का क्रमांक।
आवेदक-यात्री का नाम, पता और टेलीफोन नंबर।
आपात स्थिति में किसी भी संपर्क किया जाने वाले आवेदक-यात्री के निकटतम संबंधी का नाम।
तीर्थ यात्रा का मार्ग।
बलताल/ पहलगाम से यात्रा की तिथि।
दर्ज बैंक हर दिन 8 बजे तक हर जारी किए गए यात्रा परमिट के बारे में पूरी जानकारी मेल करेंगे। विशेष रूप से अनुच्छेद 17 में विवरण सहित सूचीबद्ध निम्न sasbjk2001@gmail.com ईमेल आईडी पर SASB को।
नोडल अधिकारी/ नोडल बैंक की शाखा, यात्रा परमिट जारी किए गए (बैंक शाखा-वार और राज्य-वार)की गेइ कुल संख्या date-wise और route-wise, हर दिन 8 बजे तक SASB को e-मेल से संप्रेषित करेगा।
पंजीकरण की प्रक्रिया खत्म होने के बाद, पंजीकरण शाखा सभी आवेदन पत्रों और CHC के आधार पर YPs जारी किया गया है, सीईओ SASB, को भेजें जाएँगे।
पंजीकरण प्रक्रिया के अंत में, बैंक कीअलग-अलग शाखाए सभी अप्रयुक्त (रिक्त) यात्रा परमिट डाक द्वारा नोडल अधिकारी को लौटा देगा। सीईओ SASB को नोडल अधिकारी वही अप्रयुक्त (रिक्त) यात्रा परमिट, 30 सितंबर, 2015 तक भेज देगा।
पंजीकरण शाखा यात्रियों को सामान्य बैंकिंग घंटो के बाद (3 बजे से 6 बजे सोमवार से शुक्रवार के दौरान) पंजीकृत कर सकते हैं। शनिवार, 1 बजे से 4 बजे के बीच पंजीकरण किया जा सकता है।
 (संकलन)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
UJJAIN, MADHYAPRADESH, India
Thank you very much.. श्रीमान जी, आपके प्रश्न हेतु धन्यवाद.. महोदय,मेरी सलाह/परामर्श सेवाएं निशुल्क/फ्री उपलब्ध नहीं हें..अधिक जानकारी हेतु,प्लीज आप मेरे ब्लॉग्स/फेसबुक देख सकते हें/निरिक्षण कर सकते हें, फॉलो कर सकते हें.. *पुनः आपका आभार.धन्यवाद.. मै ‘पं. "विशाल" दयानन्द शास्त्री, Worked as a Professional astrologer & an vastu Adviser at self employed. I am an Vedic Astrologer & an Vastu Expert and Palmist. अपने बारे में ज्योतिषीय जानकारी चाहने वाले सभी जातक/जातिका … मुझे अपनी जन्म तिथि,..जन्म स्थान, जन्म समय.ओर गोत्र आदि की पूर्ण जानकारी देते हुए समस या ईमेल कर देवे..समय मिलने पर में स्वयं उन्हें उत्तेर देने का प्रयास करूँगा.. यह सुविधा सशुल्क हें… आप चाहे तो मुझसे फेसबुक /Linkedin/ twitter /https://branded.me/ptdayanandshastri पर भी संपर्क/ बातचीत कर सकते हे.. —-पंडित दयानन्द शास्त्री”विशाल”, मेरा कोंटेक्ट नंबर हे—- MOB.—-0091–9669290067(M.P.)— —Waataaap—0091–9039390067…. मेरा ईमेल एड्रेस हे..—- – vastushastri08@gmail­.com, –vastushastri08@hot­mail.com; (Consultation fee— —-For Kundali-2100/- rupees…।। —For Vastu Visit–11,000/-(1000 squre feet) एवम् आवास, भोजन तथा यात्रा व्यय अतिरिक्त…।। —For Palm reading/ hastrekha–2100/- rupees…।

स्पष्टीकरण / DECLERIFICATION----

इस ब्लॉग पर प्रस्तुत लेख या चित्र आदि में से कई संकलित किये हुए हैं यदि किसी लेख या चित्र में किसी को आपत्ति है तो कृपया मुझे अवगत करावे इस ब्लॉग से वह चित्र या लेख हटा दिया जायेगा. इस ब्लॉग का उद्देश्य सिर्फ सुचना एवं ज्ञान का प्रसार करना है Disclaimer- Astrology this blog does not guarantee the accuracy or reliability of a

हिंदी लिखने में परेशानी/ दिक्कत

हिंदी में केसे टाईप कर/ लिख लेते हें..???(HOW CAN TYPE IN HINDI ..??) -----हिंदी लिखने में परेशानी/ दिक्कत ...???? मित्रों, गुड मोर्निंग,सुप्रभात, नमस्कार.... मित्रों, आप सभी लोग भी हमारी तरह हिंदी में लिखना / टाईप करना चाहते होंगे की मेरी तरह सभी लोग इंटरनेट पर इतनी बढ़िया/ जल्दी हिंदी में केसे टाईप कर/ लिख लेते हें..??? यह कोई खास / विशेष कार्य नहीं हें .. यदि आप लोग भी थोडा सा श्रम / प्रयास/ म्हणत करेंगे तो आप भी एक हिंदी लेखक बन सकते हें.. बस आपको इतना करना हें की मेरे द्वारा दिए गए निम्न लिंक पर जाकर किसी भी शब्द को अंग्रेजी / इंग्लिश में टाईप करना हें, वह शब्द अपने आप हिंदी / देव नगरी या फिर मंगल फॉण्ट या यूनिकोड में परिवर्तित /बदल जायेगा... तो आप सभी लोग हिंदी लिखने के लिए तैयार हें ना..!!! आप में से जिन मित्रों को हिंदी लिखने में परेशानी/ दिक्कत आ रही वे सभी लोग निम्न लिंक का यूज / प्रयोग करें----( ब्लॉग लिखने वाले या फिर आपने वाल पर पोस्ट लिखने वाले)- कुछ लिंक------ -----http://www.easyhindityping.com , -----http://imtranslator.net/translation/english/to-hindi/translation , -----http://utilities.webdunia.com/hindi/transliteration.html , -----http://transliteration.techinfomatics.com, -----http://hindi-typing.software.informer.com, -----http://www.quillpad.in/editor.html, -----http://drupal.org/project/transliteration -----http://www.google.com/inputtools/cloud/try , -----http://www.google.com/transliterate/.... -----http://www.hindiblig.ourtoolbar.com/...... -----http://meri-mahfil.blogspot.com/...... --.--http://rajbhasha.net/drupal514/UniKrutidev+Converter ------मित्रों, मेने आप सभी की सुविधा के लिए कुछ उपयोगी हिंदी टाईपिंग लिंक देने का प्रयास किया हें,जिनका में भी अक्सर उपयोग करता हूँ...मुझे आशा और विश्वास हें की आप भी इनका उचित उपयोग कर( हिंदी में टाईप कर) अपना नाम रोशन करें....कोई दिक्कत / परेशानी हो तो मुझसे संपर्क करें... अग्रिम शुभ कामनाओं के साथ .. आपका का अपना.... पंडित दयानंद शास्त्री मोब.--09024390067

समर्थक