सजदा तेरे इरादे को...!!!!

सजदा तेरे इरादे को...!!!!

नज़रे चुरा रहे हो क्यों, बचके जा रहे हो ,
सब कुछ तो ले चुके हो तुम, अब क्यों "विशाल"सता रहे हो.
दुनिया की उल्फतों से हरदम बचाया तुमको,
बेकार में दामन "विशाल" का अंगारों से जला रहे हो.
मैंने ख्वाहिशें अपनी सीने में दफ़न कर ली,
क्यों मेरे दिल के ज़ख्मों पर "विशाल" मरहम लगा रहे हो.
दिलवर बनके आये थे, दिलवर बनके रहते,
अब क्यों जुदा होके मुझ पर "विशाल" आंसू बहा रहे हो.
माजी की टीस में ही गुजर जायेगी ये रात 
बुझते हुए चिराग से, "विशाल" न कर रोशनी की बात,
अब तो जनाब रूह मेरी, अंतिम सफ़र को चल दी,
अब क्यों मेरे जनाजे को "विशाल" कन्धा लगा रहे हो.
आप का अपना ---
----पंडित दयानन्द शास्त्री"विशाल"
Mob.----09024390067..

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

KNOW 400 FREE VASTU TIPS---- -जानिए निशुल्क/फ्री 400 वास्तु टिप्स/उपाय---

आइए जाने की क्या और क्यों होता हैं नाड़ी दोष ???

भक्ति और शक्ति का बेजोड़ संगम हैं पवन पुत्र हनुमान जी--