जानिए वर्ष 2017 के गंडमूल नक्षत्र और उनकी तिथियां /तारीख--

जानिए वर्ष 2017 के गंडमूल  नक्षत्र और उनकी तिथियां /तारीख--


tulsi-vivah
27 नक्षत्रों में से 6 ऎसे नक्षत्र हैं जिन्हें गण्डमूल नक्षत्र कहा गया है. इनमें 3 नक्षत्र केतु के तो बाकी तीन बुध के नक्षत्र हैं. केतु के अश्विनी, मघा व मूल नक्षत्र हैं तो बुध के आश्लेषा, ज्येष्ठा व रेवती नक्षत्र गण्डमूल कहे जाते हैं. गण्डमूल नक्षत्रों में एक नक्षत्र की समाप्ति पर दूसरे नक्षत्र के आरंभ होने के साथ ही एक राशि का अंत होकर दूसरी राशि का आरंभ भी साथ ही होता है. शास्त्रानुसार गण्डमूल नक्षत्र में जन्मा बालक स्वयं के लिए अथवा माता-पिता अथवा अपने बहन-भाईयों के लिए अशुभ रहता है और कभी व्यवसाय अथवा जीवन में उन्नति आदि के संबंध में भी अशुभ रह सकता है.
यदि किसी बच्चे का जन्म गण्डमूल नक्षत्र में हुआ है तब ठीक 27वें दिन उसी नक्षत्र के आने पर मूल शांति अवश्य करा लेनी चाहिए. यदि किसी कारण वश 27 दिन बाद मूल शांति नहीं करवा सकते तब जिस दिन भी जन्म का मूल नक्षत्र पड़े उसी दिन शांति करा लेनी चाहिए अथवा बालक के जन्म दिन के पास जब यह नक्षत्र आए तब भी मूल शांति करा सकते हैं. यह मूल शांति किसी विद्वान तथा योग्य ब्राह्मण द्वारा ही करवानी चाहिए जिसे मूल शांति कराने का पूर्ण ज्ञान हो.
गंडमूल नक्षत्र का आरंभकाल व समाप्तिकाल 2017 – 
प्रारंभकाल (Starting Time)                                                               समाप्तिकाल (Ending Time)
दिनाँक (Dates)नक्षत्र (Nakshatra)समय (Time)दिनाँक (Dates)नक्षत्र (Nakshatra)समय (Time)
5 जनवरीरेवती16:457 जनवरीअश्विनी14:18
13 जनवरीआश्लेषा23:5015 जनवरीमघा22:44
23 जनवरीज्येष्ठा13:5625 जनवरीमूल18:47
1 फरवरीरेवती22:073 फरवरीअश्विनी20:02
10 फरवरीआश्लेषा09:4012 फरवरीमघा08:40
19 फरवरीज्येष्ठा22:0722 फरवरीमूल03:17
1 मार्चरेवती04:442 मार्चअश्विनी25:41
9 मार्चआश्लेषा17:1211 मार्चमघा17:07
19 मार्चज्येष्ठा06:1421 मार्चमूल11:51
28 मार्चरेवती13:4130 मार्चअश्विनी09:24
5 अप्रैलआश्लेषा22:527 अप्रैलमघा23:34
15 अप्रैलज्येष्ठा13:4017 अप्रैलमूल19:33
24 अप्रैलरेवती24:0526 अप्रैलअश्विनी19:20
3 मईआश्लेषा04:335 मईमघा05:02
12 मईज्येष्ठा20:1314 मईमूल26:08
22 मईरेवती10:1024 मईअश्विनी06:02
30 मईआश्लेषा11:571 जूनमघा11:15
8 जूनज्येष्ठा26:1411 जूनमूल08:05
18 जूनरेवती18:2920 जूनअश्विनी15:43
26 जूनआश्लेषा21:2328 जूनमघा19:17
6 जुलाईज्येष्ठा08:248 जुलाईमूल14:10
15 जुलाईरेवती24:4817 जुलाईअश्विनी23:18
24 जुलाईआश्लेषा07:4326 जुलाईमघा04:52
2 अगस्तज्येष्ठा15:164 अगस्तमूल21:02
12 अगस्तरेवती06:1414 अगस्तअश्विनी05:04
20 अगस्तआश्लेषा17:2222 अगस्तमघा14:43
29 अगस्तज्येष्ठा22:571 सितंबरमूल04:47
8 सितंबररेवती12:3110 सितंबरअश्विनी10:37
16 सितबरआश्लेषा25:0518 सितंबरमघा23:23
26 सितंबरज्येष्ठा07:0328 सितंबरमूल12:57
5 अक्तूबररेवती20:507 अक्तूबरअश्विनी17:51
14 अक्तूबरआश्लेषा06:5416 अक्तूबरमघा06:07
23 अक्तूबरज्येष्ठा14:5325 अक्तूबरमूल20:48
2 नवंबररेवती06:564 नवंबरअश्विनी03:29
10 नवंबरआश्लेषा12:2512 नवंबरमघा11:32
19 नवंबरज्येष्ठा21:5722 नवंबरमूल03:51
29 नवंबररेवती17:121 दिसंबरअश्विनी14:28
7 दिसंबरआश्लेषा19:549 दिसंबरमघा17:41
17 दिसंबरज्येष्ठा04:1319 दिसंबरमूल10:09
26 दिसंबररेवती25:4728 दिसंबरअश्विनी24:38


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

KNOW 400 FREE VASTU TIPS---- -जानिए निशुल्क/फ्री 400 वास्तु टिप्स/उपाय---

आइए जाने की क्या और क्यों होता हैं नाड़ी दोष ???

भक्ति और शक्ति का बेजोड़ संगम हैं पवन पुत्र हनुमान जी--